पारस अस्पताल के संचालक डाॅ जैन पर दर्ज हो, सामूहिक हत्या का केस : डा. सुनील तिवारी

0
152

झांसी । आज क्रांतिवीर वीर सेवक संघ के तत्वावधान में
“बढते हुए भौतिक संसाधन, गिरते हुए नैतिक मूल्य ” विषय पर संगोष्ठी सम्पन्न हुई ।

इस गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित करते हुए, डाॅ सुनील तिवारी ने कहा कि आज विश्व पटल पर जैसे-जैसे भौतिक संसाधन बढ रहे है, वैसे-वैसे नैतिक मूल्यों में गिरावट देखने को मिल रही है ।
डाॅ तिवारी ने आगरा के पारस अस्पताल का उदाहरण देते हुए कहा कि कोविड -19 की महामारी के दौरान, जिस ढंग से इस अस्पताल के संचालक डाॅ जैन ने आक्सीजन की माॅक ड्रिल को अन्जाम दिया, जिससे पांच मिनट के अन्दर 22 मरीजों की आक्सीजन की कमी से मौत हो गई । यह घटना अमानवीय होने के साथ, क्रूरता की पराकाष्ठा है। अगर कोई डाॅ, मरीज की सांसों को छीनने का काम करे, तो उसे चिकित्सक होने का अधिकार नहीं ।
डाॅ तिवारी ने कहा कि अभी तक माॅक ड्रिल, अग्निशमन यन्त्रों की परख के लिए की जाती थी, लेकिन विश्व में पहली बार आक्सीजन को लेकर माॅक ड्रिल देखने को मिली ।

कोरोना काल में असहाय मरीजों की जेब में लाखों रूपये का डाका डालने वाले डाॅ जैन की सारी डिग्रियाँ जब्त करके, उनके ऊपर सामूहिक हत्या करने का मुकदमा दर्ज होना चाहिए ।

कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ समाजसेवी गोकुल प्रसाद वैद्य ने की । इस अवसर पर गुलजारी लाल राय, विनोद जैन, प्रमोद राय, आनंद विरथरे, धीरेन्द्र चतुर्वेदी, डाॅ राजीव पुरोहित, सचिन पुरोहित, विवेक पुरोहित आदि ने संगोष्ठी में विचार व्यक्त किये ।
संगोष्ठी का संचालन और आभार जयप्रकाश विरथरे द्वारा व्यक्त किया गया ।

LEAVE A REPLY